7th Pay Commission : तारीख का हुआ खुलासा इस दिन केंद्रीय कर्मचारियों के खाते में आएंगे 2 लाख रुपए

WhatsApp Group Join Now

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी आ रही है। भारत सरकार बहुत जल्द कर्मचारियों व पेंशनधारकों का अटका पड़ा डीए एरियर का पैसा उनके बैंक खाते में डालने जा रही। इसी के साथ सरकार ने महंगाई भत्ते में बड़ी बढ़ोतरी का भी ऐलान किया है। इस तरह से केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशन धारकों को दो बड़ी खुशी एक साथ मिलने जा रही है।

दरअसल जनवरी 2020 से जून 2021 तक का डीए एरियर का पैसा सरकार ने रोक दिया था क्योंकि उस दौरान कोरोना महामारी फैली थी जिसके बाद से कर्मचारी संगठन लगातार पैसों की मांग कर रहे हैं।

7th Pay Commission 2023 Latest Update

आ रही खबरों के अनुसार पता चला है कि केंद्र व राज्य सरकार डीए में 4 फ़ीसदी तक की बढ़ोतरी करने की तैयारी में है। इसी के साथ कर्मचारियों का अटका पड़ा पैसा जो 18 महीने से रुका हुआ है वह पैसा भी लाभार्थियों के बैंक खाते में डालने जा रही है। इस खबर को सुनकर केंद्रीय कर्मचारी व पेंशन धारक ये 2 फायदे मिलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं और पैसे आने की तारीख का अनुमान लगा रहे हैं। इस खबर की चर्चा हर तरफ फैल रही है क्योंकि यह दो बड़ी सौगात होगी लाभार्थियों के लिए।

कर्मचारियों के खाते में डीए एरियर का इतना आएगा पैसा

मीडिया खबरों से मालूम चला है कि केंद्र की मोदी सरकार केंद्रीय कर्मचारियों व पेंशनभोगियों का 18 महीने से अटका पड़ा डीए एरियर का पैसा उनके बैंक खाते में डालने जा रही है। अगर यह बात सच होती है तो इतनी मोटी रकम पाकर कर्मचारी व पेंशनभोगियों की खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा।

मिल रही जानकारी अनुसार प्रथम श्रेणी के कर्मचारियों के खाते में डीए एरियर के लगभग 2 लाख 18 हजार रुपए की रकम सरकार की तरफ से भेजी जाएगी जो कि इस महंगाई के जमाने में आर्थिक मदद के तौर पर काम आएगी।

डीए में इतने फ़ीसदी होगी बढ़ोतरी

केंद्र सरकार केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनधारकों के डीए में 4 फ़ीसदी का इजाफा करने जा रही है जिसके बाद कर्मचारियों की सैलरी में अच्छा खासा फायदा होगा। वर्तमान में 42 फ़ीसदी के हिसाब से डीए मिलता है जो अब बढ़कर 46 फ़ीसदी हो जाएगा। आपको बता दें सरकार कर्मचारियों के डीए में हर साल 2 बार इजाफा करती है।

WhatsApp Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *